• +91 9250050227   +91 9250050228
  • info@parivartanayurveda.com

Digestion

Two problems constipation and acidity makes you suffer from digestion issues every day no matter how healthy you are.

पाचन

कब्ज और एसिडिटी ये दो समस्याएं पाचन समस्याओं से लोगों पीड़ित बनाती हैं, बेशक आप कितने भी स्वस्थ क्यों न हों|

Constipation is not a boon it is a bane

The word constipation does not need any medical description even not acidity. Most of the people suffer from both the diseases at some point of time or other. Constipation is something that is not too hard to sketch, when you find someone in your home occupying the toilet for more than an acceptable duration, you must be rest assure that he or she is suffering from constipation. However, you need to tell them that toilet is not a desirable place or a solution for them; they need to figure out the possible ways to get rid of their chronic constipation or frequent bouts of the same. Convince them of the fact that they need to have normal bowel movements.

कब्ज कोई वरदान नहीं है यह एक बैन है

कब्ज शब्द को किसी भी चिकित्सा विवरण की आवश्यकता नहीं है यहां तक ​​कि अम्लता भी नहीं| ज्यादातर लोग किसी न किसी समय दोनों बीमारियों से पीड़ित होते हैं| कब्ज एक ऐसी चीज है जिसे बनना भी बहुत मुश्किल नहीं है, जब आप अपने घर में किसी को अधिक समय तक शौचालय पर कब्जा करते हुए पाते हैं, तो वह कब्ज से पीड़ित है| हालांकि, आपको उन्हें यह बताने की ज़रूरत है कि शौचालय उनके लिए समाधान नहीं है; उन्हें अपने पुराने कब्ज से छुटकारा पाने के तरीकों का पता लगाने की आवश्यकता है|

Don’t ignore acidity

Similar with the issues acidity, it is easy to turn into discomfort any time and might demand medical attention from time to time. Although you cannot associate, all type of stomach pains with acidity. Hence, you need to diagnose properly if it is ascertain to sync the relation between pain and acidity. The disease is always a result of excessive oily, salty, sweet, and spicy food, frequent consumption of tea, coffee, alcohol, smoking etc. Therefore, it is important to keep yourself and maintain distance from junk food, along with it you need to reduce tension, worries, stress, lack of physical activities, and intake of allopathic medicines like Aspirin or painkillers also increase acidity.

Therefore, if you think that you are suffering from chronic, you need to get the body fine-tuned for the goodness of your body and your daily life. You need to get rid of them.

एसिडिटी को अनदेखा न करें

एसिडिटी के मुद्दों के समान, किसी भी समय असुविधा में बदलना आसान है और समय-समय पर चिकित्सा की मांग कर सकते हैं| रोग हमेशा अत्यधिक तैलीय, नमकीन, मीठा और मसालेदार भोजन, चाय, कॉफी, शराब, धूम्रपान आदि के लगातार सेवन का परिणाम है, इसलिए अपने आप को जंक फूड से दूरी बनाए रखना महत्वपूर्ण है, इसके साथ ही आपको इसकी आवश्यकता है तनाव, चिंताओं, तनाव, शारीरिक गतिविधियों की कमी और दर्द निवारक दवाओं जैसे एलोपैथिक दवाओं का सेवन भी एसिडिटी को बढ़ाता है|

इसलिए, यदि आपको लगता है कि आप पुरानी बीमारी से पीड़ित हैं, तो आपको अपने शरीर और अपने दैनिक जीवन की अच्छाई के लिए शरीर को ठीक करने की आवश्यकता है| आपको उनसे छुटकारा पाने की आवश्यकता है| तो आप जल्द ही आयुर्वेद से अपनी बीमारी का इलाज करवाएं|

Why You Think Ignoring Constipation And Acidity Is Not Bad?

The most important thing is that you have to keep the bowel movement regular. The number of bowel movements generally decreases with age. In India, you will find 95 percent of the adults suffer from Constipation and Acidity. In case you are suffering from nausea, frequent stomach ache, constant headache, pain in the anus while you try to cope up with constipation or may be suffering from losing weight or appetite or have an uneasy feeling in the stomach like bloating or heaviness due to acidity you must choose the possible options from Ayurveda to treat yourself effectively.

आपको लगता है कि कब्ज और एसिडिटी को नजरअंदाज करना बुरा नहीं है?

सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आपको मल त्याग को नियमित रखना होगा| आंत्र आंदोलनों की संख्या आम तौर पर उम्र के साथ घट जाती है| भारत में, आप पाएंगे कि 95 प्रतिशत वयस्क कब्ज और एसिडिटी से पीड़ित हैं| अगर आप मतली, बार-बार पेट में दर्द, लगातार सिरदर्द, गुदा में दर्द साथ ही आप कब्ज के साथ सामना करने की कोशिश कर रहे हैं या वजन कम करने या भूख से पीड़ित हो सकते हैं या पेट में एक असहज महसूस कर रहे हैं जैसे पेट फूलना या भारी होना एसिडिटी आपको अपने आप को प्रभावी ढंग से इलाज करने के लिए आयुर्वेद से संभावित विकल्पों का चयन करना चाहिए|


top